कितनी बातें याद आती है Kitni Baatein Yaad Aati Hain Hindi Lyrics | Lakshya

Movie: Lakshya (2004)
Music: Shankar-Ehsaan-Loy
Lyrics: Javed Akhtar
Singer: Hariharan, Sadhna Sargam
Label: Sony Music

कितनी बातें याद आती है – Hindi Songs’s Lyrics

कितनी बातें याद आती है
तस्वीरें सी बन जाती हैं
मैं कैसे इन्हें भूलूँ
दिल को क्या समझाऊँ

कितनी बातें कहने की है
होठों पर जो सहमी सी है
इक रोज़ इन्हें सुन लो
क्यों ऐसे गुम-सूम हो

क्यों पूरी हो ना पाई दास्तान
कैसे आई है ऐसी दूरियाँ

दोनो के दिलों में सवाल है
फिर भी है खामोशी
तो कौन है किसका दोषी
कोई क्या कहे

कैसी उलझनों के यह जाल है
जिन में उलझे है दिल
अब होना है क्या हासिल
कोई क्या कहे

दिल की हैं कैसी मजबूरियाँ
खोये थे कैसे राहों के निशान
कैसे आई हैं ऐसी दूरियाँ

दोनो के दिलों में छुपा है
जो इक अंजाना सा ग़म
क्या हो पायेगा वो कम
कोई क्या कहे

दोनो ने कभी ज़िंदगी के
इक मोड़ पे थी जो पाई
है कैसी वो तनहाई
कोई क्या कहे

कितना वीरान है ये समा
साँसों में जैसे घुलता है धुवाँ
कैसे आई है ऐसी दूरियाँ

कितनी बातें याद आती है
तस्वीरें सी बन जाती हैं
मैं कैसे इन्हें भूलूँ

तुमसे आज यूँ मिलके दिल को
याद आये लम्हें कल के
ये आँसू क्यों है छलके
अब क्या कहें

तुमने हमको देखा जो ऐसे
तो इक उम्मीद है जागी
फिर तुमसे प्यार पाने की
अब क्या कहें

आ गये हम कहाँ से कहाँ
देखे मुडके ये दिल का कारवाँ
कैसे आई है ऐसी दूरियाँ

Kitni Baatein Yaad Aati Hain Lyrics

Hariharan:
Kitni baatein yaad aati hai
Tasveerein si ban jaati hain
Main kaise inhein bhooloon
Dil ko kya samjhaaun

Sadhana:
Kitni baatein kehne ki hai
Honton par jo sehmi si hai
Ik roz inhein sun lo
Kyun aise gum-sum ho

Hariharan:
Kyun poori ho na paayi daastaan

Sadhana:
Kaise aayi hai aisi dooriyaan

Hariharan:
Dono ke dilon mein chhupa hai
Jo ik anjaana sa gham
Kya ho paayega woh kam
Koyi kya kahe

Sadhana:
Dono ne kabhi zindagi ke
Ik mod pe bhi jo paayi
Hai kaisi woh tanhaai
Koyi kya kahe

Hariharan:
Kitna viraan hai ye sama

Sadhana:
Saanson mein jaise ghulta hai dhuwaan
Kaisi aayi hai aisi dooriyaan

Hariharan:
Kitni baatein yaad aati hai
Tasveerein si ban jaati hain
Main kaise inhein bhooloon

Sadhana:
Tumse aaj yun milke dil ko
Yaad aaye lamhein kal ke
Ye aansoon kyun hai chhalke
Ab kya kahen

Hariharan:
Tumne hamko dekha jo aise
Toh ik umeed hai jaagi
Phir tumse pyaar paane ki
Ab kya kahen

Sadhana:
Aa gaye ham kahaan se kahaan

Hariharan:
Dekhe mudke ye dil ka kaarvaan
Kaise aayi hai aisi dooriyaan

Sadhana:
Kitni baatein kehne ki hai
Honton par jo sehmi si hai
Ik roz inhein sunlo
Kyun aise gum-sum ho

Hariharan:
Kitni baatein yaad aati hai
Tasveerein si ban jaati hain
Main kaise inhein bhooloon
Dil ko kya samjhaaun

Comments

comments