गिलहरियाँ GILEHRIYAAN HINDI LYRICS – Dangal | Jonita Gandhi

GILEHRIYAAN LYRICS in hindi Gilehriyaan a new song from Dangal sung by Jonita Gandhi  This song composed by Pritam Chakraborty with lyrics of “Gilehriyan” penned by Amitabh Bhattacharya

“Gilehriyan” Lyricsgilehriyaan

Song Title: Gilehriyaan
Movie: Dangal (2016)
Singer: Jonita Gandhi
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Music: Pritam
Music Label: Zee Music Compony

GILEHRIYAAN LYRICS IN HINDI

रंग बदल बदल के
क्यूँ चहक रहे हैं
दिन दुपहरियां

मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना
क्यूँ फुदक फुदक के
धडकनों की चल रही गिलहरियाँ

मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना
रंग बदल बदल के
क्यूँ चहक रहे हैं
दिन दुपहरियां

मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना
क्यूँ फुदक फुदक के
धडकनों की चल रही गिलहरियाँ

मैं जानू ना, जानू ना
क्यूँ ज़रा सा मौसम सिरफिरा है
या मेरा मूड मसखरा है, मसखरा है
जो जायका मनमानियों का है
वो कैसा रास भरा है

मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना
क्यूँ हजारे गुलमोहर से
भर गयी है ख्वाहिशों की टहनियां

मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना
क्यूँ हजारे गुलमोहर से
धडकनों की चल रही गिलहरियाँ
मैं जानू ना, जानू ना, जानू ना, जानू ना

हा.. हे हे हो..

एक नयी सी दोस्ती आसमान से हो गयी
ज़मीन मुझसे जल के
मुंह बना के बोले
तू बिगड़ रही है

ज़िन्दगी भी आज कल
गिनतियों से लूम के
गणित के आंकड़ों के साथ
एक आधा शेर पढ़ रही है

मैं सही ग़लत के पीछे
छोड़ के चली कचेहरियां

मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना
क्यूँ फुदक फुदक के
धडकनों की चल रही गिलहरियाँ

मैं जानू ना, जानू ना
क्यूँ ज़रा सा मौसम सिरफिरा है
या मेरा मूड मसखरा है, मसखरा है
जो जायका मनमानियों का है
वो कैसा रास भरा है

मैं जानू ना, जानू ना, जनु ना, जानू ना
क्यूँ हजारे गुलमोहर से
भर गयी है ख्वाहिशों की टहनियां

मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना
क्यूँ फुदक फुदक के
धडकनों की चल रही गिलहरियाँ
मैं जानू ना जानू ना जानू ना जानू ना..

Gilehriyaan Lyrics
Rang badal badal ke
Kyun chahak rahe hain
Din dupehriyaan

Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Kyun fudak fudak ke
Dhadkano ki chal rahi gilehriyaan

Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Rang badal badal ke
Kyun chahak rahe hain
Din dupehriyaan

Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Kyun fudak fudak ke
Dhadkano ki chal rahi gilehriyaan

Main jaanu na, jaanu na
Kyun zara sa mausam sirphira hai
Ya mera mood maskhara hai, maskhara hai
Jo zayka manmaniyon ka hai
Wo kaisa ras bhara hai

Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Kyun hazaare gulmohar se
Bhar gayi hai khwahishon ki tehniyaan

Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Kyun fudak fudak ke
Dhadkano ki chal rahi gilehriyaan
Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na

Ha… hey hey ho…

Ek nayi si dosti aasmaan se ho gayi
Zameen mujhse jal ke
Munh bana ke bole
Tu bigad rahi hai

Zindagi bhi aaj kal
Gintiyon se loom ke
Ganit ke aankdon ke saath
Ik aadha shair padh rahi hai

Main sahi ghalat ke piche
Chhod ke chali kachehriyaan

Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Kyun fudak fudak ke
Dhadkano ki chal rahi gilehriyaan

Main jaanu na, jaanu na
Kyun zara sa mausam sirphira hai
Ya mera mood maskhara hai
Mahkhara hai..
Jo zayka manmaniyon ka hai
Wo kaisa ras bhara hai
Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Kyun hazaare gulmohar se
Bhar gayi hai khwahishon ki tehniyaan

Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na
Kyun fudak fudak ke
Dhadkano ki chal rahi gilehriyaan
Main jaanu na, jaanu na, jaanu na, jaanu na

Oo.. haan…

 

Comments

comments

You may also like...