Khuda Hai Tere Andar Lyrics – Arijit Singh | Ghayal Once Again

January 25, 2016 Arijit Singh | lyrics No Comments
Khuda Hai Tere Andar lyrics: from Ghayal Once Again movie which is sung  Arijit Singh. Shankar Ehsaan Loy have given the music & the

Khuda Hai Tere Andar Lyrics are written by Amitabh Bhattacharya.

Song – Khuda Hai Tere Andar
Singer – Arijit Singh
Movie – Ghayal Once Again
Lyrics – Amitabh Bhattacharya
Music – Shankar Ehsaan Loy

Khuda Hai Tere Andar Lyrics – Arijit Singh – Ghayal Once Again

Bas ek chingari
Se aag lagti hai
Woh chingari toh soyi hai
Tere hi sine mein

Zamana jaisa hai
Usse waisa hi rehne de
Batao na maza hi kya
Hai aise jeene mein

Bas ek chingari
Se aag lagti hai
Woh chingari toh soyi hai
Tere hi sine mein

Karta hai kyun shikayatein
Pehle sudhar mantein
Ik ik boond se
Hi banta hai samandar

Khud pehla kadam utha
Khud apni kasam toh kha
Tujhko pata nahi
Khuda hai tere andar

Nakamiyon ke bahane hazaron hain
Kis ka kusoor kahein
Par zimmedari hamari bhi banti hai
Itna zaroor kahein

Jo ho raha hai,
Woh ankhon ke aage hai
Nazrein kyun pher lein hum
Apne iraadon se manzar badalne ka
Sar pe suroor rahe,

Mere yaara mere yaara sun le
Dil ki pukar zara

Sachaiyan sari nazdeek hain tere
Jo dhoonde tu milegi woh
Tujhe aaine mein

Zamana jaisa hai
Usse waisa hi rehne de
Batao na maza hi kya
Hai aise jeene mein

Karta hai kyun shikayatein
Pehle sudhar aadattein
Ik ik boond se
Hi banta hai samandar

Khud pehla kadam utha
Khud apni kasam toh kha

Tujhko pata nahi
Khuda hai tere andar

Tujhko pata nahi
Khuda hai tere andar

Tujhko pata nahi
Khuda hai tere andar

Lyrics of Khuda Hai Tere Andar in Hindi:

बस एक चिंगारी.. से आग लगती है
वो चिंगारी तो सोयी है तेरे ही सीने में
ज़माना जैसा है उसे वैसा ही रहने दे
बताओ ना मज़ा ही क्या है ऐसे जीने में

बस एक चिंगारी.. से आग लगती है
वो चिंगारी तो सोयी है तेरे ही सीने में
करता है क्यूँ शिकायतें
इक इक बूँद से ही बनता है समंदर
ख़ुद पहला कदम उठा
ख़ुद अपनी कसम तू खा
तुझको पता नहीं ख़ुदा है तेरे अन्दर

नाकामियों के बहाने हजारों है
किसका कुसूर कहें
पर ज़िम्मेदारी हमारी भी बनती है
इतना ज़रूर कहें
जो हो रहा है आँखों के आगे है
नज़रें क्यूँ फेर लें हम

अपने इरादों से मंज़र बदलने का
सर पे सुरूर रहे
मेरे यारा मेरे यारा सुन ले
दिल की पुकार ज़रा

सच्चियां सारी नज़दीक हैं तेरे
जो ढूंढे तू मिलेंगी वो तुझे आईने में
ज़माना जैसा है उसे वैसा ही रहने दे
बताओ ना मज़ा ही क्या है ऐसे जीने में

करता है क्यूँ शिक़ायतें
पहले सुधार आदतें
इक इक बूँद से ही बनता है समंदर
ख़ुद पहला कदम उठा
ख़ुद अपनी कसम तू खा
तुझको पता नहीं ख़ुदा है तेरे अन्दर
तुझको पता नहीं ख़ुदा है तेरे अन्दर
तुझको पता नहीं ख़ुदा है तेरे अन्दर

Comments

comments

Tags :

Leave a Reply